कुछ मेरे बारे मे...

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

समर्थक

Blogger द्वारा संचालित.
शुक्रवार, 26 जून 2009

मेरे शहर में मानसून

तो आखिरकार मेरे शहर में मानसून ने दस्तक दे ही दी ... यह एक बहुत सुकून देने वाला अहसास है । अभी जब में ये बात आप लोगो से कह रहा हूँ तब भी बाहर बरसात हो रही है और मैं बुद्धू बक्से में रामायण का अन्तिम एपिसोड देख रहा हूँ । दिन भर की थकान के बाद अब मुझे उबासी भी आ रही है साथ ही ठंडी ठंडी हवा मेरे आलस को और बड़ा रही है लेकिन मैं अभी सोना नहीं चाहता हूँ । पता नहीं क्यों लेकिन अभी नहीं...
आज शाम को मैं काम से बाज़ार गया था तब मुझे लगा की क्या कारण है की मैं इस शहर को नहीं छोड़ना चाहता हूँ , ठंडी ठंडी हवा चल रही थी , आसमान में ना अँधेरा था न उजाला एक अलग ही रंग में रंगा हुआ था आसमान मानो आज एक नए रंग की रचना करना चाहता हो जैसे और भोपाल में अब भी कुछ हरियाली आधुनिकता की बलि नहीं चढ़ पायी है तो वो भी अपना योगदान देना एक कर्तव्य के रूप में ले रही थी।
कुल मिला कर एक बहुत अच्छे मौसम की बात मैं यहाँ करना चाहता हूँ जिसका आज मैं साक्षी बना हूँ । अब मैं यही उम्मीद कर सकता हूँ एक भोपाली होते हुए कि जल्द से जल्द इस शहर की शान हमारी बड़ी झील फिर से अपने पुराने स्वरुप में लौट आए और किसी दिन तेज़ बरसात में मैं बड़ी झील के किनारे बैठ कर बरसात होते हुए देख सकूँ।
गुरुवार, 18 जून 2009

रामायण - एक भव्य गाथा का समापन

हाँ भइया ख़बर ये है की एक और अच्छे धारावाहिक का समापन होने जा रहा है। भाई रामायण का आखरी एपिसोड जल्द ही प्रसारित होने वाला है। रामायण एक ऐसी महागाथा है जो आपको बहुत कुछ सिखाती है। आप इस महागाथा के हर सन्दर्भ से कुछ न कुछ सिख सकते है , लेकिन अब और नही अब तो भइया राखी सावंत का स्वयंवर होने वाला है और हमे उसे दिखाया जाएगा। देखना न देखना तो हमारे ऊपर ही है लेकिन...
मुझे ये समझ नही आता है की आज भी लोग कुछ अच्छा देखना चाहते है तो क्यों ये चैनल वाले कुछ अच्छा दिखाने से परहेज करते है? कोई कुछ भी बोले मैं तो ये नही मान सकता की ये स्वयंवर एक अच्छा आईडिया है, अगर आपको कुछ अलग और अच्छा करना ही था तो आप भी स्टार प्लस के जैसे कोई मेट्रीमोनी कार्यक्रम दिखा सकते थे।
एक महागाथा का रिप्लेसमेंट कुछ तो स्तरवाला होना चाहिए था। अब भले ही मैं बिना देखे अपनी प्रतिक्रिया दे कर ग़लत कर रहा होऊंगा लेकिन मैं यह नही मान सकता की एक एक अच्छी पहल है। काश की हमे इस बात की आज़ादी होती की हम सीधे इस तरह के सो कॉल्ड रियलिटी शो का खुले आम विरोध कर चैनल वालो को कुछ तो अच्छा दिखाने पर मजबूर कर देते।
सोमवार, 15 जून 2009

ये जो है ज़िन्दगी या ये घर की बात है...

हाँ जी तो बताइए की ये जो है ज़िन्दगी या ये घर की बात है? सन् १९८४ में स्वर्गीय श्री शरद जोशी द्वारा लिखित और एस एस ओबेराई एवं रमन कुमार (तारा फेम) द्वारा निर्देशित "ये जो है ज़िन्दगी" को भूल पाना थोड़ा मुश्किल काम है और हम जैसे लोग तो शायद भूलना भी नही चाहेगे हलाँकि अगर मैं अपनी बात करू तो मुझे इस धारावाहिक की बहुत धुंधली यादें है लेकिन वो यादें भी इस धारावाहिक को ना भूलने के लिए काफ़ी है।
रणजीत वर्मा (स्वर्गीय श्री शफी इनामदार)उनकी पत्नी रेणू वर्मा (स्वरुप संपत) उनका साला राजा(राकेश बेदी) उनका बॉस (टिकू तलसानिया ) और उनके बंगाली पड़ोसियों (विजय कश्यप और सुलभा आर्य ) के चारो ओर घुमती ज़िन्दगी और इन जिंदगियों को एक सूत्र में पिरोते सतीश शाह , कौन भूल सकता है इन चरित्रों को? हर कलाकार एक से बड़कर एक और ऊपर से शरद जोशी के व्यंग्य ,आख़िर क्यों भूले हम इस धारावाहिक को?
ये वही धारावाहिक है जिसने टिकू तलसानिया को "ये क्या हो रहा है ?" और सतीश शाह ने "व्हाट ऐ रिलीफ" और "तीस साल का एक्सपेरिएंस है" जैसे डाय्लोग दिए। शायद आपको जान कर आश्चर्य हो की सारे धारावाहिक में एक कैमरा सेट अप किया गया था और इस धारावाहिक के कोई पायलट एपिसोड नही थे।
अब बात करे "घर की बात है " की,वैसा ही परिवार जिसमे एक पति राजदीप याग्निक (सुमीत राघवन),एक पत्नी राधिका याग्निक (जूही बब्बर ) उनका साला काकू उर्फ़ कपिल कुमार (स्वप्निल जोशी ) और पड़ोसी मिस्टर एंड मिसेस वालिया (जयति भाटिया और देवेन मुंजाल) है और इस बार इन्हे एक सूत्र में पिरोने का काम कर रहे है अली असगर। वैसे हमे इन कलाकारों की योग्यता पर कोई शक नही है पर फिर भी इस घर की बात में वो बात नही नज़र नही आती है जो कि उस ज़िन्दगी में थी। आज के दौर में आधुनिकता तो है पर वो सादगी वो बंधन नज़र नही आता है। खैर अब तो घर कि बात भी पुरानी हो चली है, पता नही क्यों लेकिन चैनल वालों को अच्छे धारावाहिक अच्छे नही लगते है तभी तो घर कि बात है का भी हश्र भी साराभाई वर्सेस साराभाई और जस्सुबेन जयंतीलाल जोशी कि जोइंट फॅमिली जैसा ही हुआ।
रविवार, 14 जून 2009

ताना ना ना ताना ना ना ना...

कभी-कभी हमे अपने मस्तिष्क की गति पर आश्चर्य करना पड़ता है, आज ही की बात ले लीजिये, आज मैं एक हिन्दी मूवी देख रहा था और उस मूवी में रत्नागिरी नाम के एक स्थान का सन्दर्भ आया तो मेरे जेहन में अचानक "अमरावती की कथायें " नाम के धारावाहिक की यादें ताज़ा हो गई। श्याम बेनेगल द्वारा निर्देशित यह धारावाहिक साहित्य अकादमी अवार्ड जीती हुई कहानियों पर आधारित थाअब अगर उस दौर के धारावाहिकों की बात चल रही है तो भला "मालगुडी डेस" का जिक्र न हो तो कुछ अधुरा तो लगेगा ही, आपको शायद न लगे लेकिन मुझे जरुर लगेगा। मालगुडी डेस , स्वर्गीय श्री शंकर नाग द्वारा निर्देशित यह धारावाहिक कर्नाटक के शिमोगा जिले के अगुम्बे में फिल्माया गया था। एल विद्यानाथन द्वारा संगीतबद्ध इस धारावाहिक का टाइटल गीत आज भी उतनी ही सुखद अनुभूति देता है जितनी की उस समय देता था।
मुझे आज भी याद है मैं पुणे में एक इंटर-वियु देने गया था तब अचानक मैंने किसी के रिंग टोन के रूप में मालगुडी डेस का गाना सुना था तो मेरा ध्यान पुरे समय इस बात पर ही लगा रहा की कैसे मैं उससे यह रिंग टोन मांगू।
मिठाई वाला हो या स्वामी हो हम आज भी उन चरित्रों को अपना सा मानते है और कही ना कही अपनी ज़िन्दगी में खोजने की एक असफल सी कोशिश करते है , ये जानते हुए कि हम शायद स्वामी की उस सच्चाई को छू भी ना पाये। सुनने में आया है की शायद दूरदर्शन इस धारावाहिक को फिर से फिल्माना चाहता है। वैसे तो परिवर्तन ही इस दुनिया की एकमात्र स्थिर चीज़ है लेकिन कुछ बातें अपरिवर्तनीय ही अच्छी लगती है और एल दर्शक के नज़रिए से मुझे भी शायद ये परिवर्तन रास न आए क्योंकि कुछ पुराने धारावाहिकों का नया स्वरुप उतना प्रभावशाली नही रहा है। खैर देखते है क्या होता है, तब तक गुनगुनाते रहिये ताना ना ताना ना ना ना...
शनिवार, 13 जून 2009

जैसा की सोचा था...

कल रात का जागरण आख़िरकार बेकार गया :( और भारत हमेशा की तरह "करो या मरो" में पड़ने की अपनी आदत पर लौट आया है। अब तक तो कप्तान साब की चतुराई की हर तरफ़ तारीफ़ हो रही थी और इसमे कोई दो-राय भी नही है की हमारे कप्तान साब एक अच्छे खिलाड़ी है लेकिन मुझे ऐसा लगता है अपने सीनियर खिलाड़ियों का सम्मान न करके उन्होंने ग़लत ही किया है। आप अगर टीम के कप्तान हो तो आपको सब लोगों को साथ में रख कर चलना आना चाहिए न की किसी के अनुभव को नज़र अंदाज़ करके टीम में सिर्फ़ अपने वर्चस्व को साबित करना।
कोई कुछ भी बोले हम तो मानते है की हमारे कप्तान साब ने कुछ फैसले ग़लत ही लिए है , अब भइया सचिन तेंदुलकर ने अपने सम्मान की रक्षा करने के लिए ही टी २० से अपना नाम वापस लिया है नही तो उनका हश्र भी बाकी सिनिअर्स जैसा हो जाता क्योंकि हमारे सिनिअर्स में कितना दम है ये तो वो लोग आई पी एल में साबित कर ही चुके है।
कप्तान साब अभी तक तो आपकी किस्मत ने आपका साथ दिया है लेकिन हर बार नही और जो नीचे होता है वो ऊपर जरुर आता है इसलिए जो ऊपर है उसे नीचे आना ही पड़ेगा। सफलता हर समय आपके साथ नही रहेगी , इस बात को हमेशा ध्यान में रख कर अपने आधार को कभी भूलना नही चाहिए।
शुक्रवार, 12 जून 2009

सुपर ८ में भारत

हाँ तो भइया रात के पौने बारह बज रहे है और हम एक सच्चे देशभक्त की तरह भारत-वेस्ट इंडीज का टी २० मुकाबला देख रहे है। वैसे युसूफ पठान की पारी ने कुछ हद तक भारत को मुकाबले में ला दिया है नही तो हमारे खिलाड़ियों ने क्रिस गेल को एक आसन सा लक्ष्य देने का मन बना लिया था , लेकिन देखिये युसूफ पठान में तो जैसे बिल्कुल टीम भावना नही है तभी तो शायद उन्होंने कहा की नही अगर वेस्ट इंडीज को ये मैच जितना है तो उनको थोडी मेहनत करनी ही पड़ेगी।
अरे ये क्या ? अब तो इरफान पठान भी अपने भाई का साथ देने लगे और टीम से बगावत करने हुए अपने पहले ही ओवर में फ्लेचर को आउट कर दिया... अब शायद कप्तान साब उन्हें इस मैच में दुबारा बोलिंग का मौका नही देगे।
चलिए देखते है अब क्या होता है...

मेरी स्थगित यात्रा

पिछले कुछ महीनों से मुझे कुछ बदलाव चाहिए था तो सोचा की शिर्डी हो आऊं, बाबा के दर्शन भी हो जायेंगे और एक ढर्रे पर चल रही ज़िन्दगी को थोड़ा सा बदलाव भी मिल जाएगा, लेकिन वो कहते है ना की जब तक बाबा न बुलाए आप उनसे मिलने नहीं जा सकते हो, ऐसा ही कुछ हुआ मेरे साथ, शायद अभी मेरा बाबा से साक्षात्कार का समय नहीं आया था और इसलिए उन्होंने मुझे अभी मिलने नहीं बुलाया।
पुराने ज़माने में जैसे लोग कठीन यात्रा कर देव दर्शन को जाते थे आजकल ऐसा नहीं होता है और शायद एक आम आदमी की तरह मैं भी थोड़ा सा स्वार्थी हो गया था और मैंने तय किया था कि अगर हमारी भारतीय रेल मुझे एक आरामदायक यात्रा का सुख देगी तो ही मैं इस यात्रा पर जाऊँगा अन्यथा बाकी लोगों की तरह बाबा के अभी ना बुलाने का बहाना कर दूंगा।
खैर अब एक पुख्ता इंतजाम के साथ अपनी अगली यात्रा का कार्यक्रम बनाऊंगा ताकि बाबा के नाम से कोई बहाना ना बनाना पड़े और मुझे भी थोड़ा सा सुकून मिल जाए अपनी रूटीन ज़िन्दगी से...
गुरुवार, 11 जून 2009

माफ़ कीजियेगा...

वैसे तो शायद ही कोई मेरे ब्लॉग को देखता होगा फिर भी मैं माफ़ी चाहता हूँ कि कुछ तकनिकी कारणों के चलते मुझे अपने ब्लॉग के सारे पोस्ट डिलीट करने पड़े। हालाँकि इससे किसी को कोई फर्क नही पड़ेगा लेकिन मैं तो संतुष्ट हो जाऊँगा कि मैं माफ़ी मांग ली और इससे ये भी लगेगा कि कोई ना कोई तो मेरा ब्लॉग पड़ता ही होगा, अब भले ही "दिल को बहलाने के लिए ये ख्याल अच्छा है ग़ालिब..." वैसे मुझे अपनी कुछ पोस्ट कि कमी जरुर खलेगी लेकिन कभी-कभी कुछ बातों पर आपका बस नही चल पाता है क्या करे...